बाढ़ और तटबंध के बहस के दौर में ‘रिलीफ’ की राजनीति

मेरी बातों से असहमति आपका अधिकार है पर जो नदियों और बाढ़ का प्रामाणिक इतिहास मुझे उपलब्ध हुआ, उसमें दामोदर और कावेरी...

बाढ़ को मत कोसिए!

  भले राज्य के 12 जिले डूबे हुए हैं, लाखों लोग बेघर हैं, दो दर्जन से अधिक लोग मर गए हैं, फिर भी...

नदियों को उनका रास्ता दीजिए, बांध निदान नहीं है!

कमला नदी का तटबंध जयनगर से झंझारपुर तक 1950 के दशक में पूरा कर लिया गया था और इसे झंझारपुर से दर्जिया...

मेघालय जल नीति बनाने वाला पहला राज्य बना!

  मेघालय संभवतः देश का पहला राज्य है, जो भविष्य में होने वाले पानी के संकट का आंकलन करते...

बिहार में बाढ़ के हालात बदतर

रात में साढ़े दस बजे बौराहा से संगठन के वरिष्ठ साथी श्री इन्द्र नारायण सिंह जी का फोन आया कि बाढ़ की...

बिन पानी सब सून : विकराल होता जल संकट

एक अनुमान के अनुसार देश भर में क़रीब 190 थर्मल पॉवर प्लांट स्टेशन हैं, जिससे क़रीब 221 गिगावट बिजली की बनाई...

पानी का नायक पद्मश्री सिमोन उरांव

85 साल के झारखंड के सिमोन उरांव देश भर में पानी बचाने की मुहिम के सबसे बड़े जीवित नायकों में से एक...

Latest article

उत्तराखण्ड के पर्वतीय इलाकों में बढ़ रहा तापमान, पलायन को मजबूर स्थानीय निवासी

एक नए अध्ययन के अनुसार, साल 2021-2050 के बीच उत्तरखंड का औसत अधिकतम तापमान 1.6-1.9 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ सकता है। अध्ययन के अनुसार,...

भारत में खनन की सच्चाई, मानो परिवार का पुश्तैनी सोना लुटा रहे हों

राहुल बसु यह सिद्धांत कि अर्थव्यवस्था "टिकाऊ" होनी चाहिए- हम अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए भावी पीढ़ियों की क्षमता से समझौता नहीं...

‘स्मार्ट सिटी’ के नाम पर गरीब – मेहनतकशों पर अत्याचार बंद करोः एनएपीएम

प्रधान मंत्री का संसदीय क्षेत्र वाराणसी में बस्तियों को उजाड़ना निंदनीय: सरकार पुनर्वास के लिए तत्काल पहल करे मोदी सरकार ‘स्मार्ट सिटी’ का सपना लोगों...